Simplified What is MMID Code & How to Generate it?

What is MMID Code and how you can generate it easily.

what is mmid code

MMID Code is abbreviated for Mobile Money Identifier and it is used to Transfer or Receive money using the IMPS Method of the mobile banking system.

MMID code is a 7 digit code, which is unique to every bank account and is linked with a customer registered mobile number. Every bank account has only one MMID Code and it is unique for every account. MMID uses the mobile number to recognize the person’s bank account and if you have more than one bank account then you can easily join them with your single mobile number but you can not have two MMID numbers for one bank account.

To know the exact account number of the beneficiary you should always use MMID Code with the mobile number, but MMID alone is capable to transfer or receive money in the account.

This Method of using MMID made IMPS a successful method introduced by NPCI ( National Payments Corporation of INDIA). UPI is also based on this IMPS method and is uses IMPS’ existing NFS switch of RBI to clear payments.

To use IMPS it is necessary to get registered for Mobile Banking and you will get an MMID code along with Mpin from your bank when you register. MPin works exactly like your ATM Card PIN which helps to verify you are the owner and validate the payments being made.

Now Lets know how we can get MMID Code and MPIN to do payments.

  1. Visit your Bank Branch and fill the form for mobile banking and submit it over the counter. You will get your MMID and MPin via mobile SMS or by Post.
  2. The second way is to use your bank’s mobile app and apply for it from there, it will take some seconds to do so.
  3. The Third way is to Visit your bank ATM and choose the Mobile Banking option in the ATM machine, and then follow screen guidelines. After Successful Validation, you will get MMID code and MPin Via SMS in some minutes.
  4. To generate the MMID code you can also use the Internet Banking Facility.

Lets know What is MMID Code in Hindi by QuesAns.

MMID का पूर्ण रूप मोबाइल मनी आइडेंटिफ़ाइर ( Mobile Money Identifier ) है। यह बैंक ग्राहक के लिए 7 अंको का एक संख्या होती है । इस संख्या का इस्तेमाल तब किया जाता है जब हम पैसे भेजने या प्राप्त करने के लिए IMPS Method का इस्तेमाल करते है । देश के हर बैंक के हर बैंक अकाउंट का अपना MMID कोड होता है , और यह हर बैंक खाते के लिए अलग होता है।

MMID एक बैंक खाते की पहचान उसमे डाले हुए मोबाइल नंबर से करता है । कई अलग अलग बैंक खातो के MMID Code को 1 मोबाइल नंबर से लिंक किया जा सकता है, पर 2 अलग खातो मे 1 MMID Code नही हो सकता है । सटीक खाते का पता करने के लिए हमे मोबाइल नंबर और MMID Code दोनों का उपयोग करना चाइये, परलिए IMPS से पैसे भेजने के लिए सिर्फ एमएमआईडी कोड ही काफी है ।

UPI भी इसी आईएमपीएस प्लैटफ़ार्म पर आधारित है, और ये RBI के NFS स्विच का उपयोग करके पैसे भेजने मे सक्षम हो पाता है ।

जैसा की पहले ही बताया गया कि हर बैंक खाते मे केवल एक ही एमएमआईडी हो सकता है परंतु बैंक आपको खुद से किसी खाते का एमएमआईडी कोड नही बताते है। बैंक से किसी खाते का एमएमआईडी कोड प्राप्त करने के लिए आपको बैंक से इसे मांगना पड़ेगा। ज़्यादातर इसे मोबाइल किट के साथ दे दिया जाता है और इसमे Mpin भी होता है जो कि एक एटीएम कार्ड के पासवर्ड जैसा होता है। बिना MPin डाले कोई भी ट्रैंज़ैक्शन नही होगा ।

एमएमआईडी कोड और Mpin प्राप्त करने के लिए आपको मोबाइल बैंकिंग के लिए पंजीकृत होना जरूरी है। मोबाइल बैंकिंग पंजीकरण कुल चार तरीके से किया जा सकता है जो इस प्रकार है –

  1. अपने बैंक के किसी शाखा मे जाए और मोबाइल बैंकिंग का फॉर्म भर कर जमा कर दे। आपको एमएमआईडी और Mpin दोनों आपके रैजिस्टर्ड मोबाइल नंबर या फिर पोस्ट ऑफिस द्वारा आपके एड्रैस पर मिल जाएगा ।
  2. एमएमआईडी जनरेट करने के लिए आप अपने बैंक के मोबाइल एप का भी उपयोग कर सकते है, इसमे लगभग तुरंत ही आपको दोनों मिल जाएगा ।
  3. अपने बैंक के किसी एटीएम पर जाये, और मोबाइल बैंकिंग क विकल्प चुन कर स्क्रीन पर मांगी गयी जानकारी को भरे । सब कुछ भरने के बाद एमएमआईडी कोड और MPIN आपको SMS द्वारा मिल जाएगा ।
  4. एमएमआईडी बनाने क लिए आप अपने बैंक कि इंटरनेट बैंकिंग सुविधा का भी उपयोग कर सकते है ।

1 thought on “Simplified What is MMID Code & How to Generate it?”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *